mobilenews
miraj
pc

नाॅमिनी नहीं होता सम्पत्ति का मालिक

| January 5, 2019 | 0 Comments

चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट्स का दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन ज्ञानोदय प्रारम्भ

उदयपुर। स्टेट बैंक आॅफ इंडिया के निदेशक सीए डाॅ. गिरीश आहूजा ने कहा कि सम्पत्ति, बैंक की एफडी, आदि नाॅमिनेशन कर देने से मालिकाना हक नहीं मिल जाता। नाॅमिनी तो केवल ट्रस्टी होता है। उसे वास्तविक मालिक को सम्पत्ति की सुपुर्दगी करनी ही होती है।
वे आज द इन्स्टीट्यूट आॅफ चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट आॅफ इंडिया की कमेटी आॅन अकाउन्टिंग,स्टेण्डर्ड फाॅर लोकल बाॅडिज, बैंकिग, इंश्योरेंस व फाईनेन्शियल सर्विसेज व उदयपुर शाखा के संयुक्त तत्वावधान में सौ फीट रोड़ स्थित ओपेरा गार्डन में आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में बोल रहे थे।
सम्मेलन के मीडिया प्रभारी सीए दीपक एरन ने बताया कि डाॅ. आहूजा ने यह भी कहा कि व्यक्ति द्वारा वसीयत नहीं लिखी जाने की स्थिति में वह हिन्दू सक्शेशन एक्ट के तहत उत्तराधिकारियों में विभक्त हो जायेगी। व्यक्ति के मरने पर वह अपनी माता,पत्नी व बच्चों मंक सम्पत्ति बराबर बंटेगी।

इससे पूर्व इन्स्टीट्यूट के पूर्व अध्यक्ष अमरजीतसिंह चैपड़ा ने कम्पनी एक्ट के प्रावधानों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आॅडिटर की आज की परिस्थितियों में अपने दायित्व से अवगत कराया एवं विभिन्न प्रकार की की जाने वाली जालसाजियों से सचेत किया।
प्रारम्भ में आयोजित उद्घाटन सत्र में बतौर मुख्य अतिथि बोलते हुए बोलते हुए मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. जे.पी.शर्मा ने कहा कि देश की प्रगति में चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट्स का अहम योगदान रहा है। देश की जीएसटी, आयकर में वृद्धि करने में भी चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट्स अपनी बेहतर भूमिका निभा रहे है। देश में होने वाले बदलावों को सबसे पहले चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट्स स्वीकार करने में आगे रहते है।
इसी प्रकार प्रथम सत्र में श्रीमती प्रीति दंग ने भारतीय चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट की आस्ट्रेलिया सीपीए के साथ एग्रीमेन्ट व वहंा प्रोफेशनल अपोच्र्युनिटी विषय पर प्रकाश डाला।सीए सुमित ढढ्ढा ने दिवालियापन मूल्याकंन(इन्सोलवेन्सी वेल्यूएशन) विषय पर इसमें आ रही जटिलताओं पर विस्तृत चर्चा की।
इस अवसर पर विशिष्ठ अतिथि के रूप में बोलते हुए जयपुर से आये सेन्ट्रल केन्सिल सदस्य सीए प्रकाश शर्मा ने कहा कि आईसीएआई द्वारा समय-समय पर देशहित में दिये जाने वाले सुझावों को सरकार द्वारा स्वीकार किया जाना प्रत्येक सीए के लिये गर्व की बात है। अब चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट की प्रतिस्पर्धा स्थानीय या राष्ट्रीय स्तर पर पर नहीं वरन् ग्लोबल लेवल पर हो गयी है।
बैंक आॅडिट के लिये मिलेगा सभी को समान अवसर- सीए शर्मा ने कहा कि आईसीएआई द्वारा बनाये गये सोफ्टवेयर के जरिये बैंक की ब्रान्च आॅडिट करने वाले चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट्स को एक सौ प्रतिशत अलाॅटमेन्ट का समान अवसर मिलेगा।
सीए स्टूडेन्ट अब करा सकेगे रि-चैकिंग- जहंा पूर्व में सीए स्टूडेन्ट परीक्षा की काॅपियंा के पुर्ननिरीक्षण के लिये सिर्फ रि-टोटलिंग ही की जाती थी लेकिन अब वे काॅपियों की रि-चैकिंग करा सकेंगें,ऐसी व्यवस्था की जा रही है।
सेम्पल आॅडिट का कन्सेप्ट समाप्त- शर्मा ने बताया कि अब सेम्पल आॅडिट का कन्सेप्ट समाप्त कर दिया है। एक सौ प्रतिशत आॅडिट होगी, ताकि पारदर्शिता बनी रहे। विशिष्ठ अतिथि एक्मे फाइनेंन्स के एमडी सीए निर्मल जैन ने कहा कि यदि किसी संस्था का प्रमोटर सीए है तो निश्चिन्त रहे कि उस संस्था में गड़बड़ नहीं होगी। काॅन्फ्रेन्स डायरेक्टर सीए डाॅ. निर्मल कुणावत ने कहा कि आर्थिक स्तर पर मजबूत होते भारत के लिये यह काॅन्फं्रेन्स काफी महत्वपूर्ण है। प्रारम्भ में आईसीएआई की उदयपुर ब्रान्च के चेयरमेन सीए पंकज जैन ने अतिथियों का स्वागत करते हुए काॅन्फे्रेन्स पर प्रकाश डाला। उद्घाटन सत्र के अन्त में आभार ब्रान्च सचिव सीए विशाल मेनारिया ने आभार ज्ञापित किया। शाम को प्रतिभागियों के लिये रंगारंग संास्कृतिक कार्यक्रमों एवं अन्त्याक्षरी का आयोजन किया गया। जिसमें सीए सदस्यों ने बढ़़चढ़ कर हिस्सा लिया।

Print Friendly, PDF & Email
Share

Tags: , , ,

Category: Featured

Leave a Reply

udp-education