mobilenews
miraj
pc

हर व्यक्ति को मिलेगा खाना : राजावत

| December 14, 2011 | 9 Comments

कोई भूखा नहीं रहेगा

एफसीआई की समिति के सदस्य राजावत ने कहा

udaipur. केन्द्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय द्वारा फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया की केन्द्रीय समिति में हाल ही सदस्य के रूप में मनोनीत उदयपुर के बलवीरसिंह राजावत ने कहा कि खाद्य सुरक्षा अधिनियम के संसद में पारित होते ही आम आदमी को खाना मिलेगा। इसके बाद कोई व्यक्ति भूखा नहीं रहेगा। इसकी व्यवस्था में स्वयंसेवी संगठनों की मदद ली जाएगी।
नियुक्ति के बाद पहली बार यहां पत्रकारों से मुखातिब राजावत ने बताया कि जिस प्रकार फिलहाल मिड-डे-मील की व्यवस्था की गई है, ठीक उसी प्रकार स्वयंसेवी संगठनों की मदद से सहायता की जाएगी। एफसीआई के गोदामों की समय-समय पर देखरेख व निरीक्षण किया जाएगा ताकि गेहूं खराब होने व सडऩे की शिकायत से निजात पाई जा सके। विभाग के क्रिया-कलापों में सुधार और उन्हें उन्नत करने के प्रयास किए जाएंगे। गोदामों में भण्डारण की व्यवस्था उचित हो, इसके समुचित प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि उनका उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ जनसेवा था, है और रहेगा। खाद्य निगम का गठन किसानों के हितों की सुरक्षा के लिए, देश में खाद्यान्न का वितरण सार्वजनिक वितरण प्रणाली के लिए तथा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए किया गया था। अब इसे चलाने के लिए हालांकि मंत्रालय, वहां पर मंत्री, अधिकारी आदि हैं लेकिन जनप्रतिनिधियों के रूप में फिर भी जमीन से जुड़े व्यक्ति का मनोनयन किया जाता है ताकि किसानों के अधिकारों की सुरक्षा हो और उन्हें समुचित अधिकार मिले। उन्होंैने बताया कि भण्डारण सुविधा अत्याधुनिक तरीके से की जाएगी ताकि 40 प्रतिशत तक खराब होने वाले अनाज को बचाया जा सके। नये स्टो‍रेज यथासंभव अनाज मण्डीस के पास हों ताकि किसानों को अत्यधिक सुविधा‍ मिल सके। इससे सरकार की लागत में भी कमी आएगी। एफसीआई में होने वाली अनाज की चोरी के लिए समस्त  विभागों को ऑनलाइन कराने का प्रस्ताव दिया जाएगा ताकि आंकडे़ जनता के सामने उपलब्धि हो सके।
अध्यात्म में खासा रूझान रखने वाले राजावत का मानना है कि आज व्यक्ति सिर्फ अपना सोचता है। मेरा और मेरे परिवार का भला हो जबकि अगर आप सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय की भावना रखेंगे तो परमात्मा स्वत: ही आपका भला करेगा। आपके पास जो है, उसे बांटे, वह उससे कई गुना अधिक बढ़ेगा। प्रेम मनुष्य का प्रमुख हथियार है।
उन्होंने बताया कि देश के चार राज्यों महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, राजस्थान और गुजरात में 42 से अधिक स्कूल जिनमें करीब 22 हजार से अधिक बच्चों का अध्ययन वे अपने निखिल सर्वमंगल चेरिटेबल ट्रस्ट के माध्यम से करा रहे हैं। मुख्य रूप से झाड़ोल वाले गुरुजी के नाम से पहचाने जाने वाले राजावत इस पूरे साम्राज्य को चलाने के लिए आने वाली आमदनी के बारे में बताते हैं कि आज ट्रस्ट में एक हजार से अधिक सदस्य हैं। वे अपना योगदान तो देते ही हैं। साथ ही मैं लोगों से मांगता हूं उनके लिए जो सक्षम नहीं हैं और उनसे जो कुछ दे सकते हैं। झाड़ोल को अपना कर्म प्रदेश बनाने के बाद अब अन्य राज्यों की ओर अग्रसर हुए राजावत बताते हैं कि धीरे-धीरे अब लोग सक्षम होने लगे हैं। हमारा ध्यान सिर्फ उनकी ओर जाता है जहां आवश्यकता हो। आज घर के हर सदस्य के पास मोबाइल है, अपनी गाड़ी है तो उसे जरूरत कहां है? वो अपनी आवश्यकताएं खुद पूरी कर पा रहा है। यही कारण रहा कि जब महसूस हुआ कि अब यहां उनकी जरूरत नहीं रही तो यहां से निकलकर दूसरे राज्यों में अपने काम का प्रसार किया और चार राज्यों में 42 स्कूल संचालित करना इसी की परिणति है।
जनसेवा के तहत उन्होंने ट्रस्ट के माध्यम से कई बार चिकित्सा शिविर लगाए, जरूरत पडऩे पर यहां एम्बुलेंस भी उपलब्ध करवाई गई। आदिवासी लोगों के लिए कई बार भण्डारों का आयोजन किया। सामाजिक विकास, आर्थिक विकास, महिला सशक्तिकरण में भी प्रमुख योगदान दिया। आर्थिक विकास में जैविक खेती के लिए प्रोत्साहन, बीज भण्डारण, उन्नत खेती, कुएं गहरे कराना, आंवले की बाड़ी लगाना, सब्जी उत्पादन तथा स्वास्थ्य में दाई प्रशिक्षण, टीकाकरण अभियान, चिकित्सा सुविधाओं में विस्तार आदि प्रमुख कार्य कराए गए हैं। ट्रस्ट ने लोगों को अपने संसाधनों पर आत्मनिर्भर करने का बीड़ा उठाया जिसमें काफी हद तक वे सफल भी रहे।
udaipur news

udaipurnews

Print Friendly, PDF & Email
Share

Tags: , , , ,

Category: News

Comments (9)

Trackback URL | Comments RSS Feed

  1. meenu says:

    ye aapne sahi kiya guru ji ,,,, agr aap punjb me aa kr dekhe kyi godam me gehu chawal aise hi rakha kharab ho jata hai pr koi perwah nhi koi dhyan nhi deta itni barbadi dukh hota hai iss mamle me agr kuch ho skke to kyi garib ka pet bhar skte hai

  2. chandrakanta says:

    बहोत अच्छा प्रयास है लेकिन सही मायनों में सार्थक तभी होगा जब इसे अमली जामा पहनाया जाएगा और समयबद्ध कार्यवाही की जायेगी ..
    ‘2020 का भारत एक भूखमुक्त एवं सुपोषित भारत होगा’..आपके इस वक्तव्य के बाद यह एक आशा तो बंधती ही है ..

  3. dheeraj boda says:

    rajawat ji, sadta anaj phuch raha hai ki wo bhukhuo ko kab milega ?

  4. Amit says:

    AAP AUR LOG BHI AGAR AAGE AAYENGE TAVHI SAHI MAYNE MAIN DESH KA VIKAS HOGA. SMAST GURU MANDAL AAPKO AUR SHAKTI PRADAN KARE…… JAI HO GURUDEV

  5. Amit says:

    AAP JAISE AUR LOG BHI AGAR AAGE AAYENGE TAVHI SAHI MAYNE MAIN DESH KA VIKAS HOGA. SMAST GURU MANDAL AAPKO AUR SHAKTI PRADAN KARE…… JAI HO GURUDEV

  6. ANITA CHANA says:

    love light and healing…

  7. Gaurav Shukla says:

    Jay ho.. Ye wo sadkarmo ki Ganga he jo har Ghartak pahuchani he.aap ke is sbhi shubh vinamraprayas me hum sada hi aapke sath he. Bhagwan aap ko sbhi samrthy se youkt kare.aap ke madhyam se sbhi labhanvit ho. Jay ho…

  8. Raj Bahadur Singh says:

    Really,a great news .Badhai ho!Devoted and dedicated person like shall do a lot for the children.Good people always do justice.Congrats,

  9. IMHO says:

    (बलवीरसिंह राजावत ने कहा कि खाद्य सुरक्षा अधिनियम के संसद में पारित होते ही आम आदमी को खाना मिलेगा); आम आदमी या कोई भी व्यक्ति ? या तो गलत लिखा गया है या कहा गया है! ये आम और खास क्या है ? व्यक्ति की मानसिकता उजागर करता है! में गलत साबित नहीं करना चाह रहा हूँ ! गलत क्या हुआ वो बताना चाह रहा हूँ !

Leave a Reply

udp-education