mobilenews
miraj
pc

जितना मिला, उसी में संतोष तो नहीं होगा तनाव

| August 10, 2018 | 0 Comments

रोटरी क्लब उदयपुर द्वारा तनाव प्रबंधन पर वार्ता

उदयपुर। ओमान की निज़वा यूनिवर्सिटी की वरिष्ठ व्याख्याता डाॅ. कनीज़ फातिमा सादड़ीवाला ने कहा कि मनुष्य इस भागदौड़ की जिन्दगी में अधिक प्राप्त करने के लालच में छोटी-छोटी बातों को लेकर तनाव में रहकर अपना जीवन बर्बाद कर रहा है। यदि वह जीवन में जितना मिला उसी में सतोष करता है, तो वह आजीवन तनावमुक्त रह कर बेहतर जीवन जी सकता है।

वे रोटरी क्लब उदयपुर द्वारा रोटरी बजाज भवन में आयोजित तनाव प्रबन्धन विषयक वार्ता में मुख्य वक्ता के रूप में बोल रही थी। उन्होंने कहा कि तनाव होने पर या तो किसी से झगड़ा होता है या वंहा से चले जाते है। जीवन में बदलाव आने पर भी तनाव होता है। तनाव बुरा होता है लेकिन सभी प्रकार के तनाव खराब नहीं होते है। समस्या आने पर उसका तत्काल रिएक्शन करने पर तनाव उत्पन्न होता है। उन्होेंने सलाह दी कि मुश्किलें आने पर अपना आपा नहीं खोयंे और उसका श्ंाातिपूर्वक समाधान निकाल कर तनाव खत्म करें।
तनाव दूर करनें के उपाय-उन्होेंने कहा कि तनाव दूर करने के लिये सपोर्ट सिस्टम का सहारा लेना चाहिये। अपने व्यवहार में बदलाव लायें। स्वंय करा गुस्सा स्वयं के पास रखें, उसे दूसरों पर न थोपें। छोटे-छोटे बदलाव से बड़ी-बड़ी समस्याओं का समाधान करें। स्वयं में संगठित होना सीखें ताकि तनाव उत्पन्न न हों।
फेमेली से करें हर बात शेयर- डाॅ कनीज ने कहा कि अपनी हर समस्या को अपनी फेमेली के साथ शेयर करें। ऐसा करनें से तनाव में घटता है और उत्पन्न होने वाली समस्याओं का समाधान निकालने में आसानी रहती है। काम को प्राथमिकता के साथ करें, ऐसा करने से समय की बचत होेगी। जीवन में हर कार्य के लिये हां ही नहीं करनें, ना करना भी सीखें।
ओमान में है भारतीय शिक्षक भगवान के समान- मूलतः उदयपुर निवासी डाॅ. कनीज़ ने कहा कि ओमान में भारतीय शिक्षक को भगवान के समान माना जाता है। ओमान में बालिका शिक्षा को काफी बढ़ावा दिया जाता है यहीं कारण है कि इस वि.वि में करीब साढ़े दस हजार विद्यार्थी अध्ययनरत है जिसमें 9 हजार से अधिक बालिकाएं है। ओमान में बालक के ग्रेजुएट डिग्री लिये जाने पर पूरे गांव में जश्न मनाया जाता है। वहंा के लोग काफी मददगार एवं साधारण किस्म के है।
प्रारम्भ में क्लब अध्यक्ष ओ.पी.सहलोत ने कहा कि जीवन में हर प्रकार का प्रबंधन किया जा सकता है लेकिन तनाव का प्रबंधन करना अपने आप में एक कला है। इस अवसर पर उन्होंने विगत पखवाड़े में क्लब द्वारा किये गये सेवा कार्यो की जानकारी दी। कार्यक्रम में महादेव दमानी ने कहा कि जो प्राप्त किया वहीं पर्याप्त है, यदि यह मंत्र ले कर चलेंगे तो जीवन में कभी तनाव नहीं होगा। सचिव राकेश माहेश्वरी ने आगामी पखवाड़े में आयोजित किये जाने वाले कार्यक्रमों की जानकारी दी। प्रारम्भ में श्रीमती सहलोत ने ईश वंदना प्रस्तुत की। वीरेन्द्र सिरोया ने डाॅ. कनीज़ फातिमा का परिचय दिया जबकि मानिक नाहर ने अंत में स्मृतिचिन्ह प्रदान किया।

Print Friendly, PDF & Email
Share

Tags: , , , , ,

Category: Featured

Leave a Reply

udp-education